http://www.clocklink.com/world_clock.php

Friday, June 11, 2010

यार इसकी कमीज मेरी कमीज से .........

अपनी रचना कम्युनिटी पर पोस्ट करते ही

दोस्तों के कमेंट्स फटा-फट आने लगे

कुछ ने वाह वाह किया

और कुछ बहुत अच्छे से नवाजने लगे,



लेकिनं कुछ ऐसे जिनको ये सब गवारा न हुआ

और वो सोचते कि ...

यार इसकी कमीज मेरी कमीज से सफ़ेद क्यूँ

साबुन तो में महगा वाला इस्तेमाल करता हूँ

लेकिन चमक इसकी कमीज में दिखाई देती है,



मेने कहा यार,



में फूटपाथ पथ पर चलता हूँ

तभी लोगो कि नजरों में चढ़ता हूँ

तुम लक्जरी कार में बैठ कर

आसमान में उड़ते हुए,

जमीन को छूने कि नाकाम कोशिश करते हो,



पहले जमीन पर आओ

फिर सबको अपनी कमीज दिखाओ,



ये साहित्य का दरबार हे,

जो प्यार से चलता हे,

यूँ खामखा अकड़ दिखाने

कही पाठक पड़ता हे

6 comments:

संजय भास्कर said...

are waah kya likh ahai..aalok ji majedar...

संजय भास्कर said...

अच्‍छी कल्‍पना .. कल्‍पना भी तो कवि का जीवन है !!

उम्मेद गोठवाल said...

अपने भावों की सार्थक,सशक्त व प्रभावी प्रस्तुति हेतु शुभकामनाएं।

ALOK KHARE said...

aap sab ka dils e aabhaar
yun hi utsah bardhan karte rahiye

Anonymous said...

namashkaar alok ji main pahli baar aapke blogger me aapko padhne k liye aaya aapki kavitaayen bahut achchhi lagi main aapse ek vinati karna chahungaki aap apni kavitaon me chhand laaiye aapki likhne ki shailyhar kavita me lagbhag ek c hai aap ek achchchhe kavi hain aap koshish karenge to kar dikhayenge aapse or sundar or behtar lekhi ki kaamna sahit

rajan {gareeb}

ALOK KHARE said...

dil se shukriya Ranjan ji, aaj tak kisi ne is aur dhyan hi nhi dilaya,aapne meri rachnao ko kafi kareeb se padha , iske liey abhar, aur aapke bahulmulye sujhab ke liye dils e shukriya, i will try my best