http://www.clocklink.com/world_clock.php

Saturday, May 19, 2012

सिम्पली रिलेशन

Blog parivaarजैसे ही हमने पहली मुलाकात में
उनको संबोधित किया  दीदी->
वो झट से बोली मैं ममता बनर्जी नही हूँ
मुझे दीदी मत बोलो प्लीज!
मेरा कार्टून चाहे जितना बना लो!

हमने थोड़ी देर सोचा फिर बोले
बहिन जी कहू तो चलेगा...
वो बहुत जोरो का चिल्लाई
खबरदार जो मेरी तुलना मायावती
से कि ..गाली देनी हे तो ऐसे ही दे लो,
लेकिन बहिन जी कभी न बोलियो!

हम असमंजस  में पड़ गए
अब क्या बोले फिर दिमाग
में कुछ आया, हमने डरते हुए
झट से तुक्का  बिठाया
अम्मा कहू तो कैसा रहेगा..
वो झट से बोली
में जयललिता जितनी भी
बुड्ढी नही हूँ! 
फिर वो गुस्से में बोली..
क्या आपको इन राजनितिक
नामों के अलावा कोई और नाम नही आता
अब हमारे चौंकने  कि थी बारी
कि हम तो सिम्पली रिलेशन
बैठा रहे थे! 
ये  राजनितिक नाम तो अपने आप
जुड़ते जा रहे थे!

9 comments:

dheerendra said...

आपने मैडम नही कहा नही तो वो मान जाती,....

बहुत सुंदर रचना,..अच्छी प्रस्तुति

MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,
MY RECENT POST,,,,फुहार....: बदनसीबी,.....

प्रवीण पाण्डेय said...

सारे सम्बोधन तो कब्जे में चले गये हैं..

expression said...

:-)

रिश्तों में राजनीती पैठ चुकी है सर.....
सादर.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

:):)
मैडम भी आज कल लोगों को भाता नहीं है
वो बात दूसरी है की सामने कोई कहता नहीं है

kshama said...

Hahaha!

Shanti Garg said...

बहुत ही बेहतरीन रचना....
मेरे ब्लॉग

विचार बोध
पर आपका हार्दिक स्वागत है।

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

prritiy----sneh said...

achhi lagi, par sach kahun aapki isse kahin behtar padhi, suni hain maine.

ek cup chai na coffee kab hogi :)

shubhkamnayen

Khare A said...

shukriya doston!